Rahul Pillai.jpg
राहुल पिल्लै, सीईओ, इंटेरेम रीलोकेशन

जीएसटी रीलोकेशन सेक्टर को करेगा प्रोत्साहित

जीएसटी यानि गुड्स एण्ड सर्विस टैक्स जुलाई 2017 से लागू होगा, यह आजादी के बाद सबसे महत्वाकांक्षी सुधारों में से एक है।

मीडिया की कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार जीएसटी लागू होना रीलोकेशन सेक्टर (स्थानान्तरण उद्दोग) के लिए फायदेमंद साबित होगा। रीलोकेशन उद्दोग के पेशेवरों के अनुसार जीएसटी पारदर्शिता लाएगा। उदाहरण के लिए जब ट्रक एक राज्य से दूसरे राज्य में जाते हैं, तो उन पर भारी कर और पेपर वर्क लागू होता है। जीएसटी लागू होने के बाद पूरी प्रक्रिया बेहद आसान हो जाएगी।

रीलोकेशन सेक्टर उतार-चढाव के बीच विकसित हो रहा है, ऐसे में जीएसटी यहां महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। एक जगह से दूसरी जगह पर स्थानान्तरण मुश्किल काम है। घर या कार्यालय या यहां तक कि छोटे से कारोबार को भी स्थानान्तरित करना बेहद मुश्किल काम है। घर या कार्यालय या यहां तक कि छोटे से कारोबार को भी स्थानान्तरित करना बेहद थकाऊ और तनावपूर्ण प्रक्रिया होती है। और इन परेशानियों के अलावा कर तथा वाहनों का अनुमोदन  भी परेशानी का कारण बन जाते हैं। इन सब पहलुओं का असर डिलीवरी के समय पर पड़ता है और उपभोक्ताओं को देर से माल प्राप्त होने की समस्या से जु्झना पड़ता है।

ऐसे में रीलोकेशन कम्पनियों के लिए भी अपने उपभोक्ताओं को सुविधाजनक सेवाएं उपलब्ध कराना मु्श्किल हो जाता है। साथ ही उपभोक्ता भी कम्पनी के बारे में सुनिशिचत होना चाहता है कि यह सुरक्षित एवं भरोसेमंद है या नहीं। उपभोक्ता सर्वश्रेष्ठ एवं किफायती सेवाओं की उम्मीद रखता है। इसके अलावा अगर हम मौजूदा परिवेश की बात करें तो रीलोकेशन सेक्टर में प्रतियोगिता भी बहुत अधिक बढ़ गई है। इंटेरेम ऐसा ही एक खिलाड़ी है।

इंटेरेम रीलोकेशन कम्पनी सभी कीमती सामान के लिए बीमा सेवा उपलब्ध कराती है। ऐसे में आपके सामान और यहां तक कि पालतू जानवर भी स्थानान्तरण के दौरान  सुरक्षित रहते हैं। क्या आपको नहीं लगता कि यह पहलू बेहद फायदेमंद है यह देश के लगभग सभी शहरों, नगरें में शीर्ष पायदान के मुवर्स एवं पैकर्स के रूप में अपनी जगह बना चुकी है और किफायती बजट में सुविधाएं उपलब्ध कराती है।

“रीलोकेशन कारोबार हमेशा से देश या विश्वस्तर पर होता है। इसका मतलब यह है कि कई तरह के कर और परिवहन में आने वाली मुश्किलें को आसानी से हल किया जा सकता है। हमारे लिए अच्छी ख़बर है जीएसटी लागू होने जा रहा है। यह रीलोकेशन उद्दोग के लिए बेहद फायदेमंद होगा”, राहुल पिल्लै, सीईओ, इंटेरेम रीलोकेशन।

उन्होंने अपनी बात को जारी रखते हुए कहा, ” हम पूरे जोश के शाथ रीलोकेशन सेक्टर पर काम कर रहे हैं, ताकि भारत और विदेशों में इसे आसान बनाया जा सके। हम अपने एसोसिएट्स एवं उपभोक्ताओं के प्रति आभारी हैं जिन्होंने हमारी कम्पनी में भरोसा किया। हम आश्वासन देते हैं कि आने वाले समय में भी हम आपको गुणवत्तापू्र्ण  सेवाएं उपलब्ध कराते रहेंगे।”

सेक्टर पूरी उत्सुकता के साथ जीएसटी के लिए इंतजार कर रहा है। देखना दिलचस्प होगा कि कैसे जीएसटी कारोबार में पारदर्शिता लाता है और कैसे इससे उद्दोग लाभान्वित होने वाला है। इसके फायदे और नुकसान के बारे में समय ही बताएगा तब तक इंतजार करें।

 

Advertisements